Sunday, 29 June 2014

आसमां से परे

आसमां से परे
एक आसमां की तलाश है, 
सुदूर उस पार क्षितिज के 
जहा धरती और गगन 
मिलने को बेकरार है।  
और जो अब तक मिल नहीं पाये 
बस और थोड़ा दूर 
न जाने अब तक कितने फासले नाप आये 
किन्तु फिर भी वही  दुरी, पास-पास है।  
और इसपर पनपते जीव ने 
उस धरती से  कांटे नहीं तो 
आसमां के शोलो को ही 
बस दिल में बसाया है। 
हैरत नहीं की उसने भी 
इन दोनों के प्यार को बस 
छद्म ही पाया है। 
प्रतीत होता है और है का अंतर 
सबने ज्ञान से अर्जित किया है, 
प्रेम की पहली परिभाषा ही 
अब यहाँ दूरियों में अर्पित किया है। 
जिसको किसी की चाह नहीं 
हर किसी ने दुसरो में वही देखा है। 
मैं  प्रेम का सागर हूँ 
बाकी में सिर्फ  नफरत की ही रेखा है। 
न देखे इस आसमां से बरसते शोलों को
या धरा पर चलते फिरते शूलों को,  
चलो इससे परे कोई आसमां ढूंढेंगे  
जहाँ धरती गगन एक दूसरे को चूमेंगे। । 

12 comments:

  1. आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन वास्तविकता और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  2. मृग मरीचिका की तरह है यह क्षितिज पर धरती और गगन का मिलन। चलो हम भी ढूंढते हैं आपके साथ एक नया आसमाँ।

    ReplyDelete
  3. सुंदर रचना कोमल भाव !!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (01-07-2014) को ""चेहरे पर वक्त की खरोंच लिए" (चर्चा मंच 1661) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार...

      Delete
  5. कहाँ होते हैं अनेकों आसमा ... अपनी पसन् अनुसार कहाँ मिलता है सब कुछ ... जो ही उसी को अच्छा बनाना होगा ...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर रचना ....बिच में कुछ भटकाव सा लगा ....पर अंत में सँभालते हुए शानदार लिखा आपने |

    ReplyDelete
  7. बहुत सार्थक चिंतन...

    ReplyDelete
  8. हैरत नहीं की उसने भी
    इन दोनों के प्यार को बस
    छद्म ही पाया है।......खूबसूरत रचना !

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर सृजन, बहुत बधाई
    कृपया मेरे ब्लोग पर भी आप जैसे गुणीजनो का मर्गदर्शन प्रार्थनीय है

    ReplyDelete