Saturday, 28 December 2013

आने वाला नव वर्ष

                                        अस्ताचलगामी रथ पर आरूढ़  काल  चक्र अपने पथ पर सतत गतियमान अंतिम परिदृश्य को नाट्य मंचन पर सफल सम्प्रेषण कर अतीत के गर्भ में वर्ष २०१३ लगभग  विलोपित होने के कगार पर  .......।  नूतन किशलय से सुस्सजित,स्वर्ण आवरण से विभूषित नव् नव वर्ष २०१४  के प्रथम नव किरण के सुस्वागत हेतु विहंग दल कलरव को तत्पर  ..........।   अनंत उम्मीदो के दामन संकुचित मन से थामे,हर्ष के अतिरेक संभानाओं के असीम द्वार के ऊपर चक्षु अधिरोपित किये ,श्याम परछाई को गीता मर्म समझ कर्म कि गांडीव पर नूतन प्रत्यंचा का श्रृंगार, सफलता के सोपान पर विजय पताका आशाओ के डोर के साथ नभ में बल खाने को मन आतुर … ………  । आशा से निराशा का संचार, अवसाद से विलगाव, चुके लक्ष्य को पुनः भेदने कि मंशा, सुप्त  ह्रदय में ओज का भान, नव का आगमन भविष्य के गर्भ में समाये मणिकाओ का वरण,क्षितिज के अंतिम बिंदु तक छू लेने की  आश का प्रस्फुटन  अनगिनत लोचन में परिलक्षित ………।  ।
                             देश और काल से इतर उन्नत मानव की  गरिमा मानव के द्वारा ही बिभिन्न द्वारों पर ठोकर खाती हिंसा कि घृणित विकृत सोच से कुचली हुई महसूस करती आँखें , जहाँ नवीन का प्रकाश और विगत के तम में न भेद लक्षित नहीं है और न ही इसे भेद कर पाने की इच्छा शक्ति , जो अपने भाग्य की अदृश्य रेखा को वर्त्तमान के धुंधलेपन में खोजने के अलावा कही शिकायत नहीं करते ,उन आँखों में नए अरुणोदय से नए विश्वास का सृजन हो   ……।       विकास के अवधारणा से  गर्वित  जन में , खुद को इस गौरवान्वित  मानव प्रतिष्ठा से वंचित के प्रति धारणा में सकारात्मक बदलाव उनके पारिस्थितिक और मानसिक उन्नत्ति में सहायक बने  वर्ष के रूप में  प्रतिष्ठित हो इस विश्वास  का संचार हो …....... …।  
                          इच्छाओ की अनंत विमाएं हर वक्त किसी न किसी कोण से जागृत होती है और काल की वृति अपने मनोयोग से गुजरती जिससे पहुँच अधूरा रह जाता  जो  अपूर्णता का भान कराती है.………।   शायद इसी अपूर्णता को भरने का क्रम ही जिंदगी है और नव दिवस का आगमन इस उत्साह को पुनः ह्रदय लक्ष्य कर उस अपूर्णता को पूर्ण करने का सांकेतिक परिघोषणा……   ।   आने वाले नव  किरण की  छटा बिखरते स्व-कल्याण से अभिमत मन में सम्पूर्ण लोक के प्रति समदृष्टि का संचार सदैव से समरूप में धरा पर बिखरती किरणो से हर किसी के ह्रदय में उत्त्पन्न हो.……… । नव प्रभात की  बेला विगत के स्याह अनुभव, अंतर्मन के पारस्परिक द्वन्द का दोहन कर असीम ऊष्मा का नव संचार करे........... । नव वर्ष २०१४ का आगमन सभी को  सांसारिक सुख से संवर्धित करने  के साथ-साथ नए आत्मिक उत्थान को प्रेरित  कर धरा के विभिन्न वर्गों में परस्पर आत्मिक सम्बन्धो के  संचार से वसुधैव कुटुंबकम्ब की दिशा में कोई नया सूत्र प्रतिपादित करेगा,  इसी आशा एवं विश्वास के साथ सभी को आने वाले  नव वर्ष की  हार्दिक शुभकामना  ………… 

Monday, 23 December 2013

तन्द्रा

कुछ-कुछ हवा सख्त थी 
बेचैन अनगिनत कुंठाओ से 
तन्द्रा टूट सी गई ,
मूक जिव्हाओ ने 
चोंगाओ से गठबंधन कर 
हाहाकार चहुँ ओर व्याप्त किया ,  
खरखराते पत्तियां टूट-टूट 
जलने को एक जगह इक्कठ्ठा हो आये , 
ओह अब ये जल पड़ेगा 
कोठीओ के झरोखों तक 
इसका ताप पहुचेगा ,
बड़े सूखे-सूखे से है ये पड़े 
चिंगारिओ को और क्या हवा देगा। 

गीले हरे लट -पट अधर 
नजर में श्रृंगाल सा सगल ,
क्या सपनो का बाज़ार 
थम सा गया है 
टूटी क्यों तन्द्रा आज 
कही कुछ कम सा गया है ,
सपनो को हकीकत से क्या लेना ,
क्या है इनका जो पाना चाहे 
सब छोड़ ये जलना चाहे ,
अब और सब्र न कराना है 
कोई नया ख्वाब दिखाना है।  

चलो एक बौछार छोड़ो 
गर्म संताप पे कुछ ठंडक घोलो ,
पत्तिया लड़खड़ाती -खड़खड़ाती 
कुछ नर्म झोंका से फरफराया 
उष्ण मन में कुछ शीत का झोंका पाया ,
पुनः तन्द्रा सा सबपे छाया है 
सब बदल गया ऐसा ही माहौल बनाया है ,
जब तक ये ठंडक है 
बैचैन होने का कोई कारण नहीं ,
तंद्रा फिर से छाने लगा है 
जगे-जगे से सोये 
फिर सब नजर आने लगा है। । 

Monday, 16 December 2013

मेरा गाँव और भूत का बसेरा

                     भूत बाल्यकाल से आकर्षित करता रहा है। देखने की जिजीविषा  उतनी  ही उत्कट होती थी  जितना की आज-कल दिल्ली के लोगो को दिल्ली में सरकार को देखने के लिए है।कुछ पत्रिकाओ में गल्प कथाये प्रकाशित होती थी,वैसे अभी भी होती है।जिसका विशेष रूचि के साथ अनवरत अध्यन होता था। कहानियो की अंतहीन श्रंखला वो देखने और सुनने की अभिलाषा संभवतः इन तथाकथिक बौधिक पुस्तको  में लगता तो ..?...तो पता नहीं क्या ?  भूत का अस्तित्व नहीं होता ,क्या विद्यालय की  किताबो में मन लगाने से भूतो की महिमा कम हो जाती ? शायद मन लगाने से कुछ विशेष उपाधी  मिल जाता   और उसी उपाधी को आधार बना कर  भूतो की तार्किक ब्याख्या करने  का प्रयास करता। पढ़ने वाले भी उसे किसी बुद्धिजीवी का लेख मान  उसपर कोई टिप्पणी  कर देते या कुछ नए विश्लेषण कर हमारे  भी दिल की उत्सुकता  को शांत करने में सहयोग देते। खैर ऐसा कुछ हुआ ही नहीं तो उसकी चर्चा क्यों  ? चलिए  बात मै  भूतो की कर रहा था।भूत के विषय में जो भी सीमित जानकारी था उसके ग्रहण का ज्यादा  स्रोत उपनिषद के अवधारणा की  तरह  श्रवण विधि ही था। भूत वो जो बीत गया ,भूत वो जिसकी आत्मा बेवक्त साथ छोड़ गया, भूत वो जो आकस्मात  भगवान को प्यारे हो गए।उस तनय उम्र में यमराज  से  संशय  के वावजूद उनके प्लानिंग पर संदेह उठ ही जाता था जैसे अभी सरकार के प्लानिंग को लेकर मन में सन्देह रहता है।आकस्मिक अवकाश  की तरह यमराज  भी आकस्मिक लोगो को क्यों बुलाते है ? लगता है जैसे राजनीति कब कौन से गड़े  मुद्दे उखाड़ दे वैसे ही पता नहीं यमराज के दूत  भी कब किसको गाड़ दे।
                  उन दिनों  गाँव  में भूतो का काफी सम्मान था। उनके अस्तित्व पर कोई प्रश्नवाचक चिन्ह नहीं था। बेसक दिन के उजाले में कोई नजर न आता हो किन्तु रात्रि काल के उसके कारनामे की चर्चा  दिन भर होती थी जैसे आजकल केजरीवाल के द्वारा दिल्ली में सरकार बनाने को लेकर हो रही है। कभी-कभी स्कूल के  कक्षा में भी व्याकरण के पढाई के दौरान कालो कि व्याख्या के साथ ही सब कुछ भूल कर भूतकाल के भूतों पर ध्यान चला जाता था। फिर मास्टरजी कि गिध्ध  दृष्टि में कैद होने के बाद ही वर्तमान  में आगमन हो पाता  था।  भगवान्  श्रीकृषण ने गीता में कैसे कहा की सभी मुझसे ही इस संसार में आते है और पुनः मुझमे ही समां जाते।किन्तु वो कौन सी आत्मा भटक कर भूत बन जाते है पता नहीं।लेकिन कक्षा में लेख लिखने के दौरान जब इस तथ्य को घोषित करता की देश कि आत्मा  गाँवो  में निवास करती है, तो भूतों का आवास फिर कहाँ होगा इस पर लेश मात्र भी संदेह नहीं था। 
                 उस समय भूतो का निवास  गाँव  के बाहर  डबरे के किसी किनारे पेडो के ऊपर हुआ करता था। शायद भूतो के सोसाईटी में कोठी पीपल का पेड़ हो,इसलिए ज्यादा भूत आशियाने के रूप में पीपल का पेड़ पसंद करते। क्योंकि ज्यादा से ज्यादा  भूत पीपल के ऊपर ही होते है ऐसा कहा जाता था। हमें उस समय तो समझ में नहीं आता कि  भूत का निवास  गाँव  के अंदर क्यों नहीं होता ,वो इंसानो से इतनी नफरत क्यों करते कि इतनी दूर जा बसते है ? जबकि हमारे घर के पीछे का बागान उनके लिए उपयुक्त था ऐसा हमें लगता था ,फिर सोचता कि इंसानी दुनिया से मुक्त होने के बाद वो पुनः कुसंगति में नहीं पड़ना चाहते होंगे।   उन्मुक्त बालपन गाँवो की गोधुली की बेला,उस वक्त बेफिक्र आनंद उत्सव का समय , घर के अन्दर रहने की बंदिश से मुक्त । बाहर चौकड़ी में हुरदंग की  सामाजिक स्वीकार्यता। उधम -चोकड़ी के बाद आराम का पल ,सांसो को अपने वेग को  यथावत लाने के लिए उबड़ -खाबड़ मेड़ो पर बैठ सुस्ताने  की प्रक्रिया। जैसे -जैसे रात की सुगबुगाहट होती सूरज के अनुचर चुपके-चुपके छुपना शुरु कर देते।कुछ-कुछ अहसास  होता सूरज की अनगिनत किरणे  भले गर्मी दिखाए मगर रात का अँधेरा भी कम ताकतवर नहीं है जो  सढ़क-सढ़क के इनपर अपना कब्ज़ा जमा ही लेते है और सूरज देवता ठन्डे हो निंद्रा मग्न हो जाते।अतिबल शाली सूरज  को हनुमान जी के साथ इन अंधेरो से भी डर लगता ही होगा। इन बातो से कुछ खास मतलब तो थी नहीं, ध्येय  भूतो के दर्शन का होता।
                     हमारे  गाँव   में उस समय तक एडिसन का प्रताप नहीं छाया था। लालटेन और डिबरी का साम्राज्य शाम  होते ही दिखने लगता किन्तु ये रौशनी चाहरदीवारी को भेदने में सक्षम नहीं थी,विकास के तमाम दावो के बाद आज भी  वक्त वे वक्त के लिए  भरोसा उस पर  कायम है।गरीबी  कि तरह डिबरी कि चिंगारी बदसूरत जल रही है। शायद कुछ लोगो के लिए ये  विलुप्तप्राय अविष्कार की श्रेणी में भी हो कुछ कह नहीं सकते। घर के सदस्य इन्ही डिबरी के  चिरागों से स्याह घूँघट में लिपटी दिवा रानी के स्वागत की तैयारी में  लगे होते थे उस विशेष काल को हम भूतो  के दर्शन लीला के उपयोगी अनुपयोगी तत्व , संभावित खतरे ,अच्छे और बुड़े ,हानिप्रद या हितकारी,होनी - अनहोनी,उसके आतंक  इत्यादि गाव की देहरी पर होने वाली रामचरितमानस के वाचन की तरह  चर्चा में  मशगुल होते।कल्पनाओं की असीमित दुनिया,समय-समय पर भूत लगने की सुचना ,उसके झांड़ -फुक की जीवंत दृश्य  एक अलग ही सृष्टि  का सृजन करता था। भूत उजाले में  पेंट सर्ट में क्यों नहीं होते इसकी जिज्ञासा अनावश्यक  रूप से भी कभी नहीं हुआ।सफ़ेद साड़ी  ,लम्बे बाल , उलटी पैड ,इन सबने मन मस्तिष्क पर भूत के रेखाचित्र का अनोखा अभेद्य आकृति उकेड़ रखा था,पुरुष भूत कि जानकारी निम्न थी । खैर हमें मतलब भूतो से था न की उसके लिंग से।अच्छा है वरना  भूतो में भी समलैंगिकता को लेकर बहस  शुरू हो जाता। 
                    अपलक निहारते ,उन चौकड़ी के बीच गाँव   की अंतिम सरहद जहा से शाम के बाद उस लक्छ्मन रेखा को लांघना अनेक अनजाने संभावित खतरे को अमंत्रीत  कर सकता था।  अतः हिदायत सख्त थी किसी भी परिस्थिति में बिना बड़े बुजुर्ग की संगति के उधर का रुख नहीं करे।अब हम कोई छुई-मुई तो थे नहीं की हमें चेतावनी की बात छू पाते  और घर में सिकुड़ जाते बालपन का मन जिसके लिए मना  करो उसको करने की उत्सुकता ज्यादा होती है, मगर  इन चेतावनी ने  सही कहे तो जाने- अनजाने डर ही भूतो से विशेष लगाव का कारण बना । तुलसीदास जी ने तो कह दिया भय बिन होहु ना प्रीति । खैर  अभी भी लगता है की ज्यदातर आदेश भय के ऊपर ही ग्रहण किया जाता है।जहा इसकी आशंका नहीं हो वह लोग किसी बात को मानने के बजाय  उसे बदहजमी समझ  कर आदेशो का कई कर देते है।
                     गाँव का सरहद शाम के बाद भारत पाकिस्तान के सरहद से भी ज्यादा संवेदनशील हो जाता था। उस समय तक घर के चाहरदीवारी के भीतर शौचालय को प्रवेश नहीं दिया गया था। सभी लोगो सूर्यास्त के साथ साथ ही बाधो -जंगलो में नित्य क्रिया  कर आते थे की रात अँधेरे में कही उधर का रुख न करना पड़े।आजकल खैर ये सुविधा लगभग  सभी को उपलब्ध है। हम भारतीय रेल के समय सारणी की तरह विलम्ब से घर का रुख करते।  परिवार के और सदस्य रोज की दिनचर्या में मशगुल हो किन्तु ध्यान अवश्य  रहता था की हम उस लक्छमन रेखा की उलंघन करने का दुसाहस तो नहीं कर रहे।किन्तु जैसे पुलिस के मुस्तैद रहने के बावजूद भी आतंकी घुस आते है वैसे ही तमाम मुस्तैदी के बावजूद हम भी भूतो के मुहल्लो के सरहद तक जा पहुचते। 
                    काफी दिनों से से हमारा कार्यक्रम पूरा नहीं हो पा रहा था। बिलकुल बीस सूत्री  कार्यक्रम कि तरह। किन्तु हम कोई सरकार तो थे नहीं कि कोई नया कार्यक्रम बनाते। भूतों  को देखने के कार्यक्रम पर हमारा ध्येय अडिग था जैसे अण्णा  जन लोकपाल से लेकर अब लोकपाल पर अडिग है । जिस तरह सी बी आई जांच में छेड़ -छाड़ की  बात लिक होने पर मंत्री महोदय को बाहर जाना पड़ा , हमारे इस कार्यक्रम कि बात लिक हो जाने के कारण कुछ मित्रो ने अपने घर के दबाव में इससे बाहर रहना ही उचित समझा। किन्तु हमकुछ साथी भूतो के दर्शन से मिलने वाले भविष्य के पुण्य लाभ से अपना लोभ संवर नहीं कर सके। लक्ष्य मछली कि आँख कि तरह साफ़ था। आज अमावस्या थी इसकी जानकारी स्वतः हो गई ,कोई विशेष  पुस्तक का अध्यन नहीं करना पड़ा। एकादशी ,संक्रांति ये दैनिक जानकारी कि चीज थी उस समय,, खैर अब ये सब पता नहीं चलता। क्योंकि अब थोड़े से आधुनिक हो गए है। सभी अपने -अपने घर से तैयार हो के निकले थे। मुझे भी पता था कि आज बाबूजी कोई विशेष काम से गाँव से बाहर है ,उनके आने तक हम अपने इस अभियान में सफल हो ही जायेंगे। माँ को विश्वास में लेना हमेशा  कि तरह बहुत ही आसान काम था सो हो गया। शाम के बाद लोगो कि आवाजाही गाँव में कम हो जाती  थी  तथा जिनसे थोडा बहुत खतरे का डर था उनके ऊपर हमने अपना खुफया पुलिस  लगा ही रखा था। जनतांत्रिक व्यवस्था कि जड़ काफी पुरातन कालीन है अपने देश में बाकी तो शहर  के विस्तार में कुछ सिमट गए,शहर में तो लोग सिर्फ वोट देते है , लेकिन  गाँव में राजनीति हवा में घुलती है सो हमें उसका पता था,किनको कैसे वश में करना है ।  
                         गर्म अमावस्या कि रात ,हवा के तेज झोंको से निकलने वाली सरसराहट कि आवाज उदेश्य में सफल होने के रोमांच के साथ-साथ अंदर का डर  चेहरे पर पौष कि रात का सर्द परत सा उभर रहा था। हम हर कोई अपने अंदर के डर को सहेज कर रखने के प्रयास करते तथा दूसरे के चेहरे कि हवाइयों पर मुस्कुराने कि कोशिश करते,जैसे चुनावी हार के बाद नेता जनता के सामने मुस्कुराते । गाँव से बाहर आकर जो अंतिम रास्ता नहीं पगडण्डी कहेंगे उससे आगे बढ़ने कि हिम्मत दिल्ली में बी जे पी जैसे सरकार बानाने कि नहीं कि वैसे ही हम भी नहीं कर पाये। वैसे वो पगडंडी बेचारी अभी भी अपने -आपको रास्ते में तब्दील होने कि बाँट जोह रही है। उसी पगडण्डी के किनारे खेत के मेड़ पर हमने दिल्ली के जंतर-मंतर में धरने कि तरह बैठ गये। डर  एकता के लिए कितना जरुरी है पहली बार मुझे ज्ञात हुआ। किसी ने कोई विरोध नहीं किया और सबने वहीँ रुकने का निश्चय किया। भूतो के प्रकोपों का हमें बिलकुल समसामियक जानकारी थी। जैसे ही हम बैठे कि एक के मुह से तेज चींख निकला  और एक ने बिना समय गवाएं उसके मुँह को दबा दिया। उसकी चीखे अंदर घुट कर दम तोड़ दिया। वो मेड़ो के अरहर के कटे जड़ो से अनजान लग रहा था। क्योंकि खेतो के अलावा उसके मेड़ो पर भी अरहर बो देते है जो कि फागुन के बाद काट लिया जाता है। वो  गाँव में रहते हुए भी इन तथ्यो से अनजान था बिलकुल वैसे जैसे  राहुल गांधी राजनीति में रहते हुए राजनीति से अंजान  लगते है। इसका खामियाजा उसे भुगतना पड़ा और बाकी हम समझ बैठे कि भूत महराज ने उसे प्रथम दर्शन दिया और वो खुशी से चीखा है। हमने हमेशा कि तरह यहाँ भी पीछे रहने के कारण अपने भाग्य को कोसा। किन्तु वास्तविक तथ्य को जानकार उसके दुःख से भी एक संतोष का ही अनुभव किया ,साथ-ही साथ उसके अल्प ज्ञान के लिये उसके  कुपित दृष्टि भी आरोपित किया ,पता नहीं क्यों?
                                 दम साधे हम बैठ गए। शांति ऐसे जैसे किसी कि शोक सभा में बैठे हो। जुगनू का प्रकाश भी अँधेरे में हौसला देने में सक्षम है पहली बार उसको महसूस किया। झींगुर कि खनकती आवाज और   उसके  मधुर संगीत के  आनंद पर अंदर बैठा डर बार -बार चोट कर रहा था। एक घंटे का समय हमने जैसे-तैसे काटा बीच -बीच में दूर पीपल के हवा के संग निकलती चिंगारी को देख भूत के उद्भव का अनुमान लगाने के साथ ही हनुमान चालीसा उलटी-सुलटी चौपाई  भी बुदबुदाने लगते ,तेज आवाज में किसी को सुन जाने कि शंका समाहित थी। आँख स्वतः बंद हो जाते उसमे हनुमान जी के लिए श्रद्धाभाव था या भूतो का डर भाव ये निश्चित नहीं कह सकते। आँखे खोलने में भी  ताकत लगता है इसका  भी एहसास उस समय हुआ जब सभी एक दुसरो को हाथ-से हाथ दबा कर इसका निश्चय किया कि कब आँखे खोले। आँखे खोलने के बाद उसी रूप में सब कुछ कही भूत जैसी कोई आकृति के दर्शन नहीं ,मन में बिठाई आकृत कभी-कभी किसी को दिख पड़ता और घिघयाते हुए कहता जैसे कोई उसे चोरी करते पकड़ा हो और उसके देखने कि क्षमता पर सवाल उठा देते जैसे केजरीवाल सरकारी लोकपाल कि क्षमता पर सवाल उठाते है। हौसला हमारा धीरे -धीरे कम होता जा रहा था किन्तु कोई कहने को तैयार नहीं था ,सभी शीला दीक्षित कि तरह हार का इन्तजार कर रहे थे। पुरे बदन और कपडे धूल से संधि कर चुके थे ,अपने परिवेश के अभिन्न अंग होने के बावजूद वर्ण व्यवस्था कि तरह उससे दुरी बनाये रखने को बाध्य किया जाता था। खैर उतने ज्ञानी हो चुके थे कि भविष्य को ध्यान देकर कि कल माँ कौन-कौन से प्रश्नो के तीर बाबूजी के सामने छोड़ेंगी हमने अपना ध्यान पूरी तरह से भूत के ऊपर केंद्रित कर रखा था। उस समय सभी के कान सतर्क हो गए जैसे पहले चुनाव-परिणाम के बाद पार्टिओ के दल-बदल को लेकर हो जाते थे। एक स्याह परछाई सभी को लगभग दिखाई पड़ रहा था किसी को किसी के देखने इस   क्षमता  पर संदेह वैसे ही नहीं था जैसे कि अपने क्रिकेट टीम को अपने देश में जितने पर नहीं होता है। वो परछाई अब धीरे-धीरे नजदीक मेड़ो को तरफ आ रहा था ,जिस पीपल पर हमने नजर टिक रखा था अब नजर उधर से पलट गई , ओबामा अफगानिस्तान से नजर हटाते बिल्कुल वैसे ही। गर्भ में छिपे भ्रूण में जैसे बेटे कि चाहत होती है हमारे मन में भी वो भूत कि तरह ही पल रहा था और पल-पल निखरने लगा। परछाई ज्यादा काली होने लगी और आकृति ने आकार लेना शुरू कर दिया। अभी तक का ज्ञान धोखा दे रहा था श्वेत-धवल आकृति के जगह ये काली सी आकृति ,मन ने इसके लिए रात के अन्धकार को कोसा। अब हमने उस आकृति के पैरो पर अन्धेरे को चीरते हुए नजर जमाया और एक फुसफुसाया अरे इसके पाँव तो सीधे है। अब वो आकृति बिलकुल दस गज पर उससे पहले हम कुछ समझते तीन शेल वाले  टॉर्च का तेज प्रकाश आँखों के ऊपर छा गया। तेज प्रकाश आँखों को वैसे ही धोखा देती है ज्यादा ऑक्सीजन मछली को। कुछ देख पाते-समझ पाते उससे पहले जोरदार चांटा घुमा,धोनी कि हेलिकॉप्टर शॉट कि तरह। गेंदवाज की  तरह हमारे पास समझने को कुछ नहीं था। चांटे का दर्द कुछ पहली बड़ी धड़कन को थामने में कारगर रहा। दिल में तस्सल्ली हुई भूत आखिर नहीं है,लेकिन दूसरे शॉट की आशंका भाप हाथ खुद-ब-खुद गाल के बाउंड्री पर जा पंहुचा । बाबूजी आज जल्दी लौट आये जो कि अंदेशा न था। इतनी रात में यहाँ क्या हो रहा है -एक तेज आवाज गूंजी ? मैं कुछ समझ पाता और मित्रो से मदद की आश में नजर उठाता ,मै अंपने-आपको अकेला पाया ,बाकी तब तक भागने में सफल हो गए मेरे मित्र के भागने कि गति  बिलकुल ऑस्ट्रेलिया के चौदह वर्षीय धावक कि तरह तेज था या उससे भी ज्यादा इसे कहना मुश्किल है। भविष्य की आशंका को दिल में धारण कर एक हाथ से गाल को  संभाले कानून के प्राकृतिक सिद्धांत का उल्लंघन से द्रवित दूसरे गाल के विषय में सोचता हुआ उनके पीछे-पीछे घर कि ओर चल दिया। और भूतों के दर्शन का इस बार का हमारा प्रयास असफल हो गया।कल सुबह के होनी अनहोनी के लिए मन ही मन भगवान् पर आश्रित हो गया।                                     

Saturday, 14 December 2013

अपने-अपने पैमाने

                               हमने अपने-अपने तराजू बना रखे है। पैमाना भी सबका अपना -अपना है। मानव इतिहास को छोड़ अपने देश के  ही इतिहास कि बात करे तो बाकई हम अद्भुत दौर में है। ग्लोबल विश्व कि अवधारणा अब डी -ग्लोबलाइज की तरफ है या नहीं ये तो कहना मेरे लिए जरा  मुश्किल है किन्तु लगता है शासन व्यवस्था का विकेंद्रीकरण में अब ज्यादा समय नहीं है।  अब  कुछ लोगो के  समूह द्वारा  अपने अपने केंद्र में सभी को स्थापित कर अपने-अपने शासन को सुचारु रूप से चलाएंगे ,ऐसा सराहणीय  प्रयास जारी है में है। हर किसी को अधिकार चाहिए। लेकिन कौन किससे  मांग रहा है या कौन किसको देने कि स्थिति में है ये पूरा परिदृश्य साफ़ नहीं हो पा रहा है 
                               जनता को स्वक्छ शासन चाहिए था। सभी ने उनसे अपना वोट माँगा। दिलदार जनता दिल खोल के अपने वोटो का दान भी किया। किन्तु अभी भी कुछ लोगो को संदेह था कि वाकई में कौन ज्यादा स्वक्छ है ,सभी के अपने-अपने पैमाने जो है। दुर्भागयवश वोटो के दान दिए हुए जनता को अब अपने लिए सरकार कि मांग करनी पर रही है। सभी दिलदार हो गए सभी देने के लिए तैयार किन्तु शासन अपने हाथ में लेने को तैयार नहीं। वाकई भारतीय राजनीति का स्वर्ण युग। जनता कि सेवा के लिए सभी भावो से निर्लिप्त बुध्त्व कि ओर अग्रसर। अब देखना बाकी है कि मिल बाट  कर सेवा कर जनता को कुछ देते है या पुनः उनसे मांगने निकल पड़ते। 
                                  अभी तक अल्पसंख्यको से तो बस धर्म या जाती विशेष में ही बटें लोगो कि जानकारी थी। किन्तु अब एक नया वर्ग उभर कर आ गया। बस साथ -साथ रहने कि ही बातें तो कर रहे ?पता नहीं ये अनुच्छेद ३७७ क्या कहता है। सरकार के  मुखिया का दिल भी  द्रवित हुआ जा रहा है आखिर दकियानुसी लोगो के पैमाने पर इन्हे क्यों तौले । पता नहीं कानून बंनाने वाले इस धारणा  पर कैसे पहुचे होंगे कि ऐसे वर्ग अपनी पैठ बनाएगा जो इतने सालो पहले ही इसे अपराध घोषित कर दिया। प्रेम हर धारणा  को तोड़ सकता है ऐसी धारणा  क्यों नहीं कायम कर पाये। अवश्य पैमाने कि गडबडी है।ऐसे समय में जब मानव समुदाय में प्रेम बढ़ाने  की जरुरत है लोग प्रेम करने वाले को दूर करने में लगे है। 
                                   शायद लगभग  ३२  प्रतिशत से ज्यादा अंतर्राष्ट्रीय माप-दंड के अनुसार गरीबी देश में छाई है ,अपने राष्ट्रीय पैमाने पर ये आंकड़ा लगभग २९.८ प्रतिशत अपने खुद के बनाये रेखा से निचे है। इनका भी अपना वर्ग विशेष समूह है। इनको समय -समय पर सम्बोधित भी किया जाता है। कई बार रेखा को बढ़ाया जाता है तो कई बार उसे घटाया जाता है। आखिर सरकार भी क्या करे जब भी गरीबो क कम दिखने का प्रयास करती है ,गरीबो से प्यार करने वाले दल उनका आकड़ा कम नहीं होने देते। आखिर उनका भी अपना पैमाना है। 
                                ऐसे भी अब विशेष कोई समस्या इस देश में है नहीं। हर जगह उनको दूर करने का प्रयास हो ही रहा है ,किन्तु मिडिया मानने  को तैयार नहीं है और वो भी अपने बनाये पैमाने में उसे उछालते रहती है। आखिर उनका भी कोई वर्ग विशेष है। उनके भी अधिकार है।जनता जो सोई है आखिर उसे जगायेगा कौन ? 
                              फेहरिस्त लम्बी है आप भी अपने पैमाने पर उसे जांच ले  ताकी अपने अधिकार नाप सके। 

Wednesday, 11 December 2013

हर्षित पद रचाऊंगा

जिन छंदो में पीड़ा झलके,
शोक जनित भावार्थ ही छलके
वैसे युग्म समूहो में
मैं शब्दो को न ढालूँगा
त्रस्त भाव को अनुभव कर भी
हर्षित पद रचाऊंगा । ।

सुख-दुःख का मिश्रण जब जीवन
यह यथार्थ नहीं कोई कोई भ्रम
तब क्यों आखर को व्यर्थ कर
बुधत्व भाव बनाऊंगा
त्रस्त भाव को अनुभव कर भी
हर्षित पद रचाऊंगा । ।

समर भूमि के इस प्रांगण में 
कर्म डोर थामे बस मन में 
गीता भाव सदा बस गूंजे 
क्यों अर्जुन क्लेश जगाऊंगा  
त्रस्त भाव को अनुभव कर भी
हर्षित पद रचाऊंगा । ।

छल ,फरेब ,धोखा की  बाते 
ठोखर खाकर छूटती सांथे 
मेरे पंक्ति में न छाये 
बस हाथ मदद में उठते को सजाऊंगा  
त्रस्त भाव को अनुभव कर भी
हर्षित पद रचाऊंगा । ।

Sunday, 8 December 2013

"आप" की जीत


                               शंका और सवाल हर वक्त कायम रहते है। बदलाव कि प्रक्रिया काफी बैचैन करने वाली  होती  है। तात्कालिक परिणाम भविष्य  के अपेक्षित चाह को कितना भरोसा देती है इसके लिए धौर्य आवश्यक  है। गुणात्मक बदलाव कि अपेक्षा, हमेशा औरों से उम्मीद  करने की प्रवृति शायद अपेक्षित परिणाम से रोक देती  है। व्यबस्था के सर्वांगीण विकास में व्यक्तिगत निष्ठा और संगठन के विचार,इसमें  फर्क करना मुश्किल  होता है।समझते-समझते हो गई क्षति को भरना उससे भी कठिन।  किसी आभा के तहत कई बार सूक्ष्म छिद्रो पर नजर नहीं जाता। अपेक्षा का स्तर और चाह संगठन के शैशव कालीन निर्माण के बाद के विकास  में समय के साथ कुरूपता भर देता है। इसके उदाहरण  से हमारा लोकतंत्र समृद्ध है। चाहे वो जन संघ का निर्माण हो या जयप्रकाश कि क्रांति हो या लोहिया का आदर्श सभी यौवन काल तक पहुचते-पहुचते चारित्रिक विकारो से ग्रस्त हो गए। आश्चर्यजनक रूप से विचारो की  प्रषंगिकता का हर चुनाव के पूर्व तथाकथित अनुयाइयों द्वारा जाप किया जाता है किन्तु उसके बाद उसका उन विचारो को व्यवहारिकता के नाम पर कैसे धूल कि तरह झाड़ा जाता है ये कोई विशेष ज्ञान बातें  नहीं है । हम भी शायद व्यवहारिकता पे ज्यादा भरोसा करते, नहीं तो ये  विचार सिर्फ तथाकथित बौद्धिक जनो के  विचार का मुद्दा न रहकर जड़ तक इसका अनुपालन हो, इससे बेखबर हो जाते। अपेक्षित चाल -चलन और विचारो का बदलाव जो कि दिल्ली विधान सभा के चुनाव में  इस बार देखने को मिला है इसका वास्तविक रूपांतरण अगर व्यवस्था संचालन में आगे  आने वाले समय में होगा तो बेहतर प्रजातंत्र से इंकार नहीं किया जा सकता है। और लकीर पकड़ कर चलने में माहिर राजनेता इन आदर्शो को चुनाव जितने में सहयोग के तौर पर देखते हुए बेशक मज़बूरी में चले तो भी स्वागत योग्य है।  किन्तु हर बार कि तरह इसमें योगदान देने वाले जनता अपने लिए व्यक्तिगत  उपदान की अपेक्षा अगर रखने लगे तो सिर्फ इसबार "आप" बधाई कि पात्र होंगे तथा इतिहास बनाते-बनाते कही ऐतिहासिक में न तब्दील हो जाए ये देखना बाकी है। फिर भी अंत में बदलाव स्वागत योग्य है और शंकालू प्रवृति से ही सही किन्तु उम्मीद कि रौशनी तो फूटी है।  

Saturday, 7 December 2013

भ्रम



कितने विश्वास .... 
अति विश्वास ? के भवर में ,
डूबते और निकलते है ,
कि तैर कर बस हमने पार कर लिया ,
इस प्रकृति पे अपना 
अधिकार कर लिया। 
और देखो वो बैठ कर 
मुस्कुराता है..... 
कहकहा शायद नहीं ,
क्योंकि अपनी रचना पर 
कभी-कभी........ 
हाँ कभी-कभी शायद पछताता है, 
कि हमने क्या बनाया था 
आज ये क्या बन गए है। 
जितने भी आकृति उकेडी है ,
सब एक ही नाम से, 
अब तक जाने जाते है। 
पर ये इंसान  जाने क्यों ?
सिर्फ हिन्दू-मुसलमां ही कहाँ ,
न जाने कितने सम्प्रदायों में 
खुद को बांटते चले जाते है। 
भ्रम के जाल में ,
उलझे दोनों परे है अब। 
रचना खुद को रचनाकार समझ बैठा ,
और जिसने  सींचे  है इतने रंग
वो सोचता हरदम  
कब फिसली मेरी कूची 
कि ये हो गया बदरंग। ।

Wednesday, 4 December 2013

तिनके का जोश


वक्त की आंधी उठती देख 
तिनको में था जोश भड़ा ,
अबकी हम न चूकेंगे 
है छूना आकाश जरा। 
दबे-दबे इन वियावान 
कब तक ऐसे रहे पड़े ,
चूस गए जो रस धरा का 
देखे कैसे अब  वो इसे सहे।  
हलके -हलके झोंकों ने 
जब भी हमको पुचकारा ,
ऊँचे दीवारो से टकराकर 
पाया खुद को वहीँ पड़ा।  
है सबका एक दिन यहाँ 
ऐसा हम तो सुनते है ,
पाश ह्रदय के नयन में हमको 
आज अश्रु से दिखते है। 
ओह देखो अब आन पड़ा है 
है बिलकुल ही पास खड़ा ,
इन झंझावात के वायुयान से 
देखूं अब  नया आसमान जरा। । 

Thursday, 28 November 2013

कुछ पंक्तियाँ यूँ ही ......

सुख से ख़ुशी है या ख़ुशी से सुख
इस जीवन में किसकी हो भूख  । 

आधार एक दूजे से ऐसे है मिलते
रेत पे लकीर जैसे बनते - मिटते।

खुशियां जीवित मन का उमंग
सुख बनते वस्तु निर्जीव के संग। 

कदम-दर-कदम दोनों की  आस
उठती है मन में दोनों कि प्यास। 

इस मरीचिका को कैसे है समझे 
मन कि तरंग यतवत भटके। । 

Thursday, 31 October 2013

द्वन्द

नजर अधखुली सी 
ख्वाव अधूरे से 
आसमान कि गहराई पे पर्दा 
बादल झुके झुके से। 
अविरल धार समुद्र उन्मुख 
पूर्ण को जाने कैसे भरता। 
एहसास सुख का या 
सुख क्या? एहसास कि कोशिश।  
हर वक्त एक द्वन्द 
किसी और से नहीं 
खुद से खुद का तकरार। 
नियत काल कि गति 
फिर क्यों नहीं कदम का तालमेल। 
जो है उसे थामे,सहेज ले 
या कुछ बचा ले जगह 
जो न मिला उसकी खोज में। 
हर रोज जारी है 
अधूरे को भरने कि  
और भरे हुए को हटाकर 
नए जगह बनाने का द्वन्द । । 

Saturday, 26 October 2013

लक्ष्य


ह्रदय व्यथित चित्त अधीर
मुख  मलिन शांत क्यों ?
दृष्टि यूँ झुंकी -झुंकी
नयन ज्योति क्लांत क्यों ?
अर्थ शब्द नित-नियत  ,
भाव  क्यों बदल रहे  ?
अथाह मन जो धीर था,
सिर्फ बातों से  उथल रहे  ?
हताश  पस्त अस्त-व्यस्त
जाने क्यों डिग रहे। 
लहर के  हर प्रहार सा
कदम कदम पर झुक रहे। । 
किससे ये द्वन्द है
         किसपर विजय गुमान है,
      धरा नीर जब रक्त-पथ
              तब कहाँ अतृप्त निदान है ?
खुद से  है छल रहे,
  जाने क्यों मचल रहे 
                मस्तष्क मणि अहिन्ह* चाह 
            गरल सिक्त मन कर रहे। 
       दम्भ-दंड पर जब खड़े  
       ऊंचाई का कहाँ भान हो 
       असीम तृष्णा वेग प्रवाह 
                  वेद सूक्त कैसे न निष्प्राण हो।। 
जब प्रलय थी अथाह
गति न थम पाई तब 
मनुज अंश एक यगुल
असंख्य रूप प्रकट अब। 
एक काया एक तब 
असंख्य कोशिका मेल सब। 
शूल का कही प्रहार 
असहय वेदना कहीं उभार। 
मनुज मन समग्र हो 
इतना न व्यग्र  हो 
देव अंश सब धरा पे 
पल कुचक्र पर न अधीर हो। । 
            कृपणता बस त्याग हो 
            ह्रदय शक्ति संचार हो 
    शूरवीर वंशजो में 
          बस मनुजता वास हो  
तरकशें है पड़ी 
       सब वाण से है  भरीं 
      थपेड़ो से मन उभार 
        कर प्रत्यंचा से श्रृंगार 
    मन से बस एक हो 
   नहीं कोई संदेह हो 
         शत्रु दंभ ,विचार अधर्म 
       सभी लक्ष्य भेद हो।।  
*सर्प           

Monday, 14 October 2013

मन का आँगन

जीवन में पाने की भाग दौड़ 
या दौड़ते हुए जीवन खोने की होड़  
पता नहीं क्या ,
आज कुछ वक्त निकल आया 
जाने कैसे ,
वक्त का मै या फिर मेरा वक्त ,
दो पल चैन से गुजारूं।  
अपने मन के आँगन में 
कुछ वक्त आज मै इसको निहारूं।   
झाँका जो धीरे से 
मन के झरोखे में ,
धुंधली परत जाने क्या 
भर आया था उस कोने में। 
मटमैले  रंगों का ढेर था जमा 
कबसे न देखा उसका था निशाँ। 
खर पतवार जाने कैसे कब घुस आये थे 
इस दौड़ में कब मन से लिपट समाये थे। 
कभी इसको माँ -बाबूजी ने 
करीने से सजाया था ,
वक्त के साथ इस आँगन में झांकना 
ये भी बताया था। 
किन्तु आपा-धापी में 
ये सब छुट गया , 
इसकी स्वच्छता का ध्यान 
खुद में रखना भूल गया। 
इस गंदगी के छीटें 
सफलता से बेशक न डिगाते  है , 
औरों की बात क्या अपनों के ही नजर में  
शायद गर्त तक गिरातें है।  
सबसे पहले बैठ कर  
अब इस को बुहारुङ्गा ,
शीतल विचारो से सींच 
उसे और निखारुंगा। 
शरीर  के साथ-साथ 
मन भी स्वच्छ साफ़ रहे
समय गुजरे अपने रफ़्तार से 
इसमें झांकना निर्बाध रहे। ।  

Sunday, 13 October 2013

रावण दहन


                
 स्वधर्म का बोध नहीं रहा 
बिंबों  पर कुंठा निकालते है 
कितने चिंगारी भरकाने वाले 
दशानन पर तीर चलाते है।  
पुरातन को ढोते आये  
वर्तमान को खोते जाते है 
अपने ग्रह का ध्यान नहीं 
नव ग्रह की चिंता जताते है।  
मौके की तलाश है बस 
छद्म भेष में मारीच छाये है
जलते दशानन हर वर्ष की भांति 
फिर खुद के हाथ जलने आये है। । 

------मंगलकामना एवं विजयादशमी की
 हार्दिक शुभकामनाओं सहित-------------- 

Thursday, 10 October 2013

सचिन तेरे बिन


                               अंतत वही हुआ जिसका डर था।  आये है सो जायेंगे ये तो शास्वत सत्य है,चाहे जीवन का क्षेत्र हो या खेल का मैदान हो  किन्तु बिलकुल वैसे ही जैसे हर इन्सान ज्यादा से ज्यादा इस संसार में अपना समय  गुजरना चाहता है और काया  के प्रति मोह नहीं जाता। वैसे ही हम तुम्हे ज्यादा से ज्यादा खेलते हुए देखना चाहते थे,इस अंध मोह का क्या कारण है ये तो विश्लेषण का विषय होगा। किन्तु  ये क्या अचानक सन्यास की घोषणा कर ऐसे ही लगा की अब क्रिकेट में मेरे लिये बस काया  रह गया और उसका आत्मा निर्वाण  के लिए प्रस्थान कर गया। 
     ढाई दशक की यात्रा किसी खेल में कम नहीं होती और उसपर भी अपने आपको शीर्ष पर बनाए रखने का दवाव उफ़ । किन्तु हमारा मन कभी ये मानने को तैयार नहीं था की तुम भी इसी हाड मांस के साधरण मानव हो। हमारे  नजर में तुम एक अवतार से कम नहीं थे। जिसका दिव्य प्रभाव सिर्फ क्रिकेट के मैदान को ही आलोकित न कर ,उसके बाहर की भी दुनिया इस चमत्कार से हतप्रभ रहा। हर किसी ने तुमसे किसी न किसी रूप में प्रभावित रहा। बेसक वो क्रिकेट का कोई जानकार रहा हो  या इस खेल से दूर तक नाता न  रखने वाले  मेरे बाबूजी रहे हो । 
        तुम्हारे आंकड़े जो की खेल के  दौरान मैदान पर  बने वो तो पन्ने में दर्ज है उसकी क्या चर्चा करना। वो तो "हाथ कंगन को आरसी क्या और पड़े लिखे को फारसी क्या" वाली बात है। किन्तु मैदान से परे का  व्यक्तित्व ही तुम्हे एक अलग श्रेणी बना दिया जहा न जाने कितने वर्गो में बटे यहाँ  के लोग भी तुम्हारी बातो पर अपना भरोसा कायम करना नहीं भूले,और बाकि धर्म के साथ-साथ क्रिकेट धर्म भी पनपा जिसके तुम साक्षात् अवतार यहाँ माने गए। इतिहास में कई महान विभूति हुए होंगे जिनपर लोगे ने ऐसे भरोसा किया होगा ,किन्तु आज के  भारत में ऐसा तो नहीं कोई दीखता।  नहीं तो क्या ये सम्भव होता की क्रिकेट जब अपने गर्त में जा रहा था और उसके मुह पर सट्टे बाजी की कालिख लगी हुई थी और सभी को इस खेल से वितृष्णा हो रखा था तो किसी मार्ग दर्शक की भाँती आगे बढ़ कर की गई अपील को किसी ने ठुकराया नहीं,तुमपर भरोसा अपने से ज्यादा करते । जब क्रिकेट साम्प्रदायिकता   के  पत्थर से लहूलुहान हो रहा था ,तो आगे आकर अपने भावुक वाणी की कवच से तुमने क्रिकेट और मानवता की रक्षा की। शायद हम इस मनोवृति के संस्कारगत शिकार रहे है जिसका परिणाम है की भगवान् की तरह लोग  तुम्हारे ओर देखने लगे। ये कैसे सम्भव हो की हिमालय की अडिगता ,समुद्र की गंभीरता  ,वायु की ,पलता से लोग तुम्हे अलंकृत न करे। खैर ये सभी आभूषण तो कवि और लेखक की कल्पनाशीलता है जबकि तुम कल्पना न होकर मूर्त हो। जिसे की हम पिछले पच्चीस वर्षो से अपने आस -पास देख रहे है,फिर भी दिल है की मानता नहीं । 
    सचिन तेरे बिन अब भी क्रिकेट के मैदान वैसे ही सजंगे किन्तु अब उसमे वो रौनक नजर नहीं आएगी। चौके -छक्के भी लगेगे किन्तु उसमे वो उल्लास नहीं आएगा। मैच के निर्णय ही मायने रखेंगे किन्तु उसमे संभवतः वो आनंद का संचार नहीं होगा। मै कभी ये विचार नहीं किया की मै  क्रिकेट प्रेमी हु ,या इस खेल में संलग्न देश प्रेमी किन्तु ये कभी संकोच नहीं रहा की मै सचिन प्रेमी हु। तेरे बिन अब क्रिकेट वैसे ही अनुभव करूँगा जैसे की किसी खुबसूरत गीत का विडिओ देख रहा हु किन्तु आवाज नदारद है। जैसे की तुम क्रिकेट की बिना जीवन की कल्पना नहीं करते सम्यक वैसे ही मै सचिन के बिना क्रिकेट की कल्पना नहीं करता,मुझे डर बस ये है की कही गलती से इतिहास यदि अपने आपको दोहराएगा तो कौन तुम्हारे भार को वहन करेगा ,खिलाडी है तो मैदान पर तो वो इसे संभल लेंगे । 
   गतिशीलता जीवन की धुरी है और पूर्ण ठहराव अंत। मुझे लगता है की क्रिकेट के खेल के प्रति पूर्ण ठहराव बेशक न हो किन्तु ये एक अल्प विराम तो अवश्य ही है। जब तक की कोई और सचिन अवतरित नहीं होता या किसी को सचिन के अवतार के रूप में नहीं देखता। तब तक सचिन तेरे बिन क्रिकेट बिना स्याही की कलम ही है……। 

Wednesday, 9 October 2013

एक याचना


माता तेरे नाम में   
श्रद्धा अपरम्पार है
झूम रहे है  भक्त सब
नव-रात्र की जयकार है । ।

शक्ति सब तुम में निहित
तुम ही तारनहार हो
सृष्टि की तुम पालनकर्ता 
तुम कल्याणी धार हो  । । 

माता तेरे आगमन पर
कितने मंडप थाल  सजे
क्या -क्या अर्पण तुझको करते
शंख मृदंग करताल बजे। ।

कुछ भक्त है ऐसे भी
जो अंधकार में खोये है
करना चाहे वंदन तेरा
पर जीवन रण में उलझे है। 

क्या लाये वो तुझे चढ़ावा 
जब झोली उनकी खाली है 
श्रद्धा सुमन क्या अर्पित करते 
तेरे द्वार भरे बलशाली है। । 

तू तो सर्व व्यापी मैया
ऐसे  क्यों तू रूठे है
उन्हें देख कर लोग न कह दे  
तेरे अस्तित्व झूठे है। । 

है बैठे  फैलाये झोली कब से 
तेरी कृपा की वृष्टि हो 
बस भींगे उसमे तन मन से 
उनमे भी एक नए युग की सृष्टि हो। । 

Sunday, 6 October 2013

विरोधाभास

                        


         नव शारदीय नव रात्र  की सभी को हार्दिक शुभकामना एवं बधाई।  इस रचना को किसी प्रकार के धार्मिक बन्धनों में बंध कर न देखे। स्वाभाविक रूप से किसी के आहात होने से खेद है  -----   

आडम्बरों  के  पट खुल गए ,
मन के कुत्सित सेज पर ,
पवित्रता के आवरण झुक गए  । 
मूर्त शक्ति की परीक्षा हर रोज, 
अमूर्त शक्ति पे सब शीश झुक गए। 
नव शारदीय उत्साह का संचार
भाव -भंगिमा बदले ,नहीं विचार। 
विरोधाभास के मंडपों में ,
कुम्हार के गढ़े कच्चे रूपों में ,
श्रधा जाने कैसे उभर आते  है। 
जिस धरा पर लगभग हर रोज ,
कितने कन्या पट खुलने से पूर्व ,
विसर्जित कर दिए जाते है। 
आँगन में शक्ति का आंगमन 
हर्ष नहीं ,विछोह से मन 
परम्पराओ में जाने क्यों ढोते है, 
ऐसे विरोधाभास कैसे बोते है। 
माँ इस बार कुछ अवश्य करेगी 
कुत्सित महिषासुर के विचारो पे 
सर्वांग शस्त्रों से प्रहार करेगी। । 

Wednesday, 2 October 2013

एक आत्मा की पुकार

हो आबद्ध युगों -युगों से
निरंतर दर-दर बदलता रहा
मुक्ति की खोज में
अब तक किसी न किसी 
काया संग युक्त ही चलता रहा.…। 

 मै अजन्मा ,जन्म काया
निर्लिप्त ही, न मोह पाया
शस्त्र ,वायु या अग्नि
अशंख्य पीड़ा की जननी  
अन्य भी न संहार पाया  ……. । 

किन्तु अब घुटता यहाँ
काया में बसता जहाँ
मलिनता छा रहा
मै  आत्मा अब
खुद पर ही रोता रहा ……. ।  

सतयुग से भटकता   
कदम बढाता कल्कि तक पंहुचा 
शायद मै  हो जाऊ मुक्त 
अंतिम सत्य से दर्शन 
युगों युगों से अब तक विचरण ……. ।  

धृष्टता सब युगों में देखि
किन्तु अब ये संस्कार 
मन मलिन काया संग करता 
मै आत्मा वेवश लाचार
किन्तु दोष ले पुनः भटकता…… . । 

जीर्ण -शीर्ण रक्षित देह 
व्याकुल विवश कितने से नेह 
मृत जग न छोड़ जाना चाहे 
किन्तु मै हर्षित हो अब 
महाप्रयाण करू इस जग से परे…….. . ।  

करुणा पुकार अब श्याम करू 
इन दिव्यता से उद्धार कर  
मै  भी चाहूँ मुक्ति अब 
खुद से अब इस आत्मा का 
इस धरा से संहार कर…… . । 

Sunday, 29 September 2013

खो गए सभी



उन्मुक्त गगन 
शीतल पवन
निर्मल जल 
विहंग दल
रेशमी किरण
भौरों का गण
सतरंगी वाण
बूंदों की गान  
ऋतुओ से मेल 
झिंगुड़ का खेल 
टर्र-टर्र का राग
आँगन में प्रयाग 
चन्दन से धुल 
मिल पराग ऑ फूल 
उठता गुबार 
गोधुली में अपार 
कचड़ो का हवन 
सर्द सुबहो में संग 
सकल गाँव का प्यार 
जो पूरा परिवार 
है खो गए सभी 
जब से छूटा वो जमीं। । 
क़दमों के चाल 
संग जीवन के ताल 
उदेश्य विहीन 
नहीं कुछ तर्क अधीन 
पथ पर सतत 
यात्रा में रत 
तन बसे कहीं 
पर मन वहीं 
डूबा प्रगाढ 
मिट्टी संग याद 
ए  काश कही 
हो जाये यही 
घूमे जो काल 
विपरीत कर चाल  
फिर जियूं वहाँ 
याद बसी जहाँ। । 

Saturday, 28 September 2013

इज्जत का जनाजा है ...


इज्जत का जनाजा है 
बेशर्म आसुं बहा बहा रहे है,
बहरों की बाराती में
देखों भोपूं पे कई गा रहे है। ।

कौन किससे अर्ज करे
हर हाथों में शिकायत का लिफाफा है,
जिनको बिठाया है गौर करे
रौशन नजर उनका कहीं जाया है। ।

खुशहाली को बयां कैसे न करे
गोदाम अनाजों से नहाया है,
कमबख्त अंतरियों को खुद गलाते  है
अब तक कार्ड नहीं बनाया है। ।

मानणीयोँ को मान देना न भूले
कभी कदम बहक जाते है,
जम्हुरिअत इनसे ही जवां है
वरना कौन इसमें कदम बढ़ाते है। ।

हर कोई खफा है इन झोको से 
ये लौ बहक न जाये कही ,
आशियाने जो बनाये है ख्वावो के 
पल भर में धधक न जाये कही। ।  

Thursday, 26 September 2013

सीमा

(चित्र :  गूगल साभार )
काश हम सब आपस  में
एकाकार हो पातें  ,
मानव अगर सीमाओं से
आजाद हो जाते। । 
कटीली तारों के जगह
अगर गुलिस्ता फूलो का होता
महक बारूद की न घुलती
वहां विरानियाँ न होता।
सरहदों के नाम न  कोई
सभी अनजान ही होते
मानव अगर सीमाओं से
आजाद हो पाते। ।
क्यों खिंची है ये रेखा
उलझते घिर रहे है हम
कही जाती का बंधन है
कभी सीमाओं पर लड़ते हम।
है धरती माँ अगर अपनी
हम संतान हो पाते
मानव अगर सीमाओं से
आजाद हो पाते। ।
कभी था विश्व रूप अपना
न कोई और थी पहचान
मानव बस मानव था 
अब भ्रम फैला है अज्ञान
वो संकीर्ण विचारो को
अगर हम मिटा पातें
मानव अगर सीमाओं से
आजाद हो पाते। ।
ये कैसी जकडन है
जो हम खुद को दबाते है
प्रकृति में कहाँ कही बंधन
मानव क्यों सिमटते जाते है
अगर इन बन्धनों से हम 
खुद को दूर कर पाते 
मानव अगर सीमाओं से
आजाद हो पाते। ।
अगर ऐसा जो हो पाता 
कभी रणभेरियाँ न बजता 
सरहदों सी मौत की रेखा 
वहां कभी रक्त न बहता 
इन्ही रक्तो से सिच कर धरती 
स्वर्ग सा रूप दे पाते  
मानव अगर सीमाओं से
आजाद हो पाते। ।     

दूरियाँ


किसी तीली की वहां जरुरत नहीं,
दिल जहाँ लोगो के जलते है,
कौन यहाँ आग बुझाये अब,
पानी की जगह नफरत ढोते है। ।

किसी पे अब ऐतबार क्या करे,
अब सब खुद में अनजाने से है,
जिनको समझा था मददगार,
उन्ही हाथों ने आशियाने जलाएं है। ।

प्रेम से नफरते बढ़ रही है अब ,
नफरत से भी प्रेम का जूनून है,
इन्शानियत अब सरेआम चौराहे पर,
इन दोनों के बीच पीसने को मजबूर है। ।

बढती जा रही बंजर जमी में,
जज्बे दलदलों में धंस सी रही ,
दिलों की हरयाली मुरझाई सी,
नागफनी हर जगह है पनप रही। ।

कौन ये बेचता है और खरीदार कौन,
भरे बाजार में इनका मददगार कौन,
सब जान कर भी अनजाने से रहते है,
जिन्दा लाश से हर जगह दीखते है। ।           

Sunday, 22 September 2013

चौक -चौराहे

जबसे चौक बाजार बन गए
दिल बेजार से हो गए,
अब मिलता  नहीं कोई मुझे
लोग उधार से हो गए।
कभी इस जगह पे
जमघटों  का दौर था ,
गाँवों के ख़ुशी और गम का
वो रेडियो बेजोड़ था। 
एक कप चाय का प्याला ही नहीं
दिन भर की उर्जा उसमे ओत-प्रोत था,
और जो शाम को थक कर लौटा तो
थकान मिटा दे ऐसे गर्म धारा का स्रोत था। 
अब हम मिलते है वहां
बस एक खरीदार की तरह ,
बातों के भाव भी बदल गए है
बाजार की तरह।
विकास जबसे गाँव में छाया  है ,
चौक  भी नए  रूप में आया है ,
सुख-दुःख का मोल करे 
ऐसे नोट कब कहाँ मिलते है ,
इसलिए चौक -चौराहे पर अब 
आम-जन नहीं बस खरीदार दीखते है। । 
            

Saturday, 21 September 2013

मेरे उद्दगार


मै कोई पथ प्रदर्शक
 या तारणहार नहीं ,
उठती लहरों को मैं बांधू 
ऐसा खेवनहार नहीं। 
मेरे बातों में न कोई
 भविष्य की पुकार सुने ,
मेरे उद्दगारों में अपने 
सपनों के अल्फाज चुने। 
मै तो हूँ बस पथिक राह का 
कदम बढ़ता चलता हूँ ,
कंटक मार्ग या पुष्प शुषोभित 
कर्म निभाता बढ़ता हूँ।  
धरा धुल सा बेशक हूँ  पर
इतना भी कमजोर नहीं ,
ठोकर खा मै सर चढ़ जाऊ
 इन जोशो में नहीं कमी ,
अंगारे  जब राह में पाया 
दिल बेशक कुछ शुष्क हुआ 
हिमवान सा धीरज धर मन 
डगर शीतल अनुकूल किया।
मैं चाहूँ जिस राह से गुजरू 
वहां न ही कोई शूल रहे 
आने वाले पथिक न अटके 
और पीड़ा से दूर रहे। 
 हो सकती है भूल ये संभव 
   राह अगर मै  भटक गया , 
मुमकिन है दिग्भ्रमित होकर 
कही बीच डगर में अटक गया। 
कोशिश होगी अपनी दृष्टि 
खुद अपने में लीन करू ,
सत्य पुंज जो राह दिखा दे 
खुद को यूँ तल्लीन करूँ। 

Thursday, 19 September 2013

बिंब

ऊपर खुला आसमान
निचे अनगिनत निगाहें
निगाहों जुडी हुई
अनगिनत तंत्र सी रेखाएं,
मन में प्रतिबिंब का क्या है मायना 
जिससे जुड़ी है सभी निगाहों का कोरा आयना।
क्या बिंब सभी की आँखों में
बस एक सा उभरता है
क्या देखते है हम ,
क्या देखना चाहते है
फर्क दोनों में पता नहीं ,
ये तंत्र कैसे कर पाते है?
बादलो से छिटकती किरणे
देव के मस्तष्क की आभा
किसी में  उभर आता है,
कोई घनी केसुओ को लहराते हुए
देख कर मचल जाता है।
चाँद में किसी को दाग नजर आता है ,
कोई सुन्दरता का पैमाना उसे गढ़ जाता है।
अनगिनत टिमटिमाते तारों की लड़ी
सर्द हाथों में गरमाहट की उमंग है ,
किसी को व्याकुल पौष में शोक का तरंग है।
पथ्थर को देव मान कोई पूजता है ,
कोई उसी से रक्त चूसता  है।
तंत्र की संरचना में कोई फर्क नहीं ,
तत्व हर एक में बस है एक सा ही,
फिर ये दोष कहाँ से उभर आता है,
है आखिर क्या जो बिंब के भावों को गढ़ पाता है ?
एक ही बिंब को हर दृष्टि में बदल जाता है ?

Saturday, 14 September 2013

मायने

कभी मै  गम पीता हु 
कभी गम मुझे पीता है
मरते है सब यहाँ ,
पर सभी क्या जीता है ?
जीने के सबने मायने बनाये है
उनके लिए क्या 
जो कफ़न से तन को ढकता  है ?
मेरी मंजिले वही 
जहाँ कदम थक गए
निढाल होकर  जहाँ 
धरा से लिपट गए। 
सभी राहें वही
फिर राह क्यों कटे कटे
विभिन्न आवरण से सभी 
सत्य को क्यों ढकता है ?
कदम दर कदम जब 
फासले है घट रहे 
मन में दूरियां क्यों 
बगल से होता जाता है ?
जहाँ से चले सभी 
अब भी वही खड़े 
विभिन्न रूपों में बस  
वक्त के साथ बदल पड़े। 

कुछ हिंदी दिवस पर

चित्र :गूगल साभार  
अपनों से जो मान न पाए,   औरों से क्या आस करे 
निज के आगन में ठुकरायें,  उसे कौन स्वीकार करे।  
जिनको आती और भी भाषा ,   हिंदी भी अपनाते है
केवल हिंदी जानने वाले थोडा -थोड़ा सा सकुचाते है।
जिनकी  रोजी-रोटी हिंदी ,उनको भी अभिमान नहीं
उनुवादक से काम चलाये और भाषा का ज्ञान नहीं।
जाने इनके मन में ऐसी कौन सी ग्रंथि विकसित है
कृत्न्घ्नता का बोध नहीं जो भाषा उनमे बसती  है।
मुठ्ठी भर ही लोग है ऐसे जो निज भाषा उपहास करे
ऐसा ज्ञान किस काम का जो दास भाव स्वीकार करे।
भाषाओ के खिड़की  जितने हो, इससे  न इंकार हमें                                  
पर दरवाजे हिंदी की हो, बस इतना ही  स्वीकार हमें।
मातृभाषा में सोचे सब और हिंदी में अभिव्यक्त करे 
प्रेम की भाषा यही जो हमको,  एक सूत्र में युक्त करे 
है उन्नति सबका इसमें ,  ज्ञान-विज्ञान सब बाते है 
भाषा की बेड़ी  को जो काटे अब वो  आजादी लातें  है। ।  

Wednesday, 11 September 2013

नफरत की दिवार

क्या दीवार हमने बनाई है, 
न इंट न सीमेंट की चिनाई है ,
पानी नहीं लहू से सिचतें है हम , 
कभी-कभी रेत की जगह, 
इंसानों के मांस पिसते है हम। ।  
पुरातन अवशेषों से भी नीचे 
धसी है नींव की गहराई ,
शुष्क आँखों से दिखती नहीं 
बस दिलों में तैरती है परछाई। । 
भूतो का भय दिखाकर 
भविष्य ये बांटता है 
धधकती है आग इसके रगड़ से 
इन पर बैठकर कोई 
अपना हाथ तापता है। ।   
जाने कब कहाँ ये खड़ी हो जाये 
ख़ुशी के खेत थे जहाँ 
नागफनी पनप जाये। 
ये दिवार सब सोंखता है 
इन्सान का इंसानियत पोंछता है 
क्या मासूम ,क्या बुजुर्ग ,क्या महिलाये
कल तक जो मिले थे गले से गले 
इनमे टकराकर इसमें समां गए 
कुछ उठी और ऊँची 
और जाने कब-कब टकराते गए। । 
कुछ के  कफ़न से ढककर 
ये दिवार छुप सा जाता है 
शायद इस बार टूट गई 
ऐसा भ्रम दिखा जाता है। । 
प्रेम दरककर जब जुट जाता 
गांठ भी साथ अपने  ले आता 
ये दरककर जब जुटते है 
और मजबूत होकर उठते है। 
इन्सान कैसे हैवान है 
ये इसका सबूत होता है 
इसे गिराना है मुश्किल 
नफरत की दिवार
बहुत मजबूत होता है। ।   

Sunday, 8 September 2013

मांग स्वरुप

                 आज हरितालिका व्रत है।  मनाने वाली महिलाओं  में इस व्रत का उत्त्साह विशेष रहता है ,कारण सभी रूपों में कई प्रकार के हो सकते है ।     बदलते समय का सामजिक परिवेश का प्रभाव निशित रूप से दृष्टिगोचर हो रहा है।  वैसे तीज के साथ-साथ ही हमारे यहाँ चौठ चन्द्र  व्रत भी होता है अपभ्रंस में चौरचन कहते। बाल्यकाल से चौठ  की महिमा ज्यादा हमारी नजरो में था क्योंकी  प्रसाद की अधिकता हमें उसी व्रत में दीखता था अतः महता उसकी स्वंय  सिद्ध थी।  धर्म के प्रति यदपि स्वाभाविक लगाव है तथापि  उसके बन्धन सिर्फ विशेष उत्सवो या त्योहारों अथवा मंदिर के अंतर्गत न होकर हर जगह महसूस करता हु। 
          
    श्रीमतीजी के पहले तीज व्रत से ही आग्रह रहता था की इसकी कथा मै स्वंय  उन्हें सुनाऊ  जिसकी इच्छा पूर्ति इस वार भी की गई।  ऐसे तो हरितालिका के कथा  वाचन से कई प्रकार के शंका से खुद ग्रसित हो जाता हु किन्तु किसी प्रकार से आस्था को ठेस न पहुचे अतः कोई वाद -विवाद से हम दोनों बचते है। खैर आज उनका विशेष आग्रह था की कोई कविता इस व्रत के ऊपर या उनके लिए ही लिख दू  तथा उसको अपने ब्लॉग पर भी  दूँ  , उनके लिए विशेष दिन है इसलिए आग्रह टाला नहीं गया और कुछ पंक्तिया   …………………………टूटी-फूटी कुछ  तुकबंदी कर दिया . त्रुटियाँ संभव है।

                       
          (१ )
              महिमा 

 है उत्सर्ग कई रूपों में
किसका मै गुणगान करू
माँ की महिमा  महिमा ही है
उसका क्या बखान करू। 
जो भी रूप में आये हो
रूप बड़ा ही न्यारा है
जीवन के हर सोपानों में
उसने हमें सवारा है। 
हर रूपों में त्याग की मुरत
अर्धांग्नी या माँ की सूरत
कितने व्रत है ठाणे तूने
विभिन्न रूप में माँने तूने
हा अब ये निष्कर्ष है लगता
जननी ,पालन हर रूप में करता।। 


             (२)
          कंचन के नाम 
माँ ने मुझको
जिन हाथो में
ऐसे ही जब सौप दिया ,
था मै किंचित शंकालु सा
क्या नेह का धागा तोड़ दिया। 
तुम संग हाथ में हाथ का मिलना
दिल खुद में तल्लीन हुआ ,
उल्काओ के सारे शंके
आसमान में विलीन हुआ।
तेरा साथ कदम नहीं
खुशिओं के पर पाए है ,
कंचन नाम युहीं नहीं
सब पारस के गुण पाए है।
बहुत कुछ कहने को है ,
हर भावों को गढ़ने को है,
पर मेरे शब्द समर्थ नहीं है,
हर शब्द का बस अर्थ तू ही है।।  

Friday, 6 September 2013

रोज कहानी नयी मैं गढ़ता ।।

जीवन के हर लघु डगर पर
उम्मीदों के बल को भर कर
है कांटे या कली कुसुम का
राहों की उस मज़बूरी पर
कभी ध्यान उसपर न रखता
रोज कहानी नयी मैं गढ़ता ।।

सुबह-सुबह  रवि है मुस्काए
या बैरी बादल उसे सताये
शिशिर सुबह की सर्द हवाए
या जेठ मास लू से अलसाए
उस पर मै  न कभी विचरता
रोज कहानी नयी मैं गढ़ता ।।

हर दिन में एक सम्पूर्ण छवि है
ब्रह्म नहीं मानव का दिन है
कितने क्षण -पल है गुजरते
उन सबका अस्तित्व अलग है
हर क्षण को जी-जीकर कर ही बढ़ता
रोज कहानी नयी मैं गढ़ता ।।

        मंजिल यही कहाँ है जाना        
प्रारब्ध नहीं बस कर्म निभाना  
हर  कदम की महिमा न्यारी 
जैसे बिनु  दिन  वर्ष बेचारी
कदम जमा  कर आगे बढता 
रोज कहानी नयी मैं गढ़ता ।।

पूर्ण जीवन एक महासमर है
हर दिन का संग्राम अलग है
अमोघ अस्त्र है पास न कोई 
डटें रहना ही ध्येय मन्त्र है 
घायल हो-होकर मै  उठता 
रोज कहानी नयी मैं गढ़ता ।। 

परजीवी का भाव नहीं है
याचक सा स्वभाव नहीं है
आम मनुज दीखता हूँ बेवस
पर दानव सा संस्कार नहीं है 
अपनी क्षुधा बुझाने हेतु 
खुद का रक्त ही दोहन करता 
  रोज कहानी नयी मैं गढ़ता ।। 

ज्यों-ज्यों रवि पस्त है होता 
तिमिर द्वार पर दस्तक देता 
जग अँधियारा मन प्रकाशमय 
ह्रदय विजय से हर्षित होता
है संघर्ष पुनः अब कल का 
पर बिता आज ख़ुशी मन कहता  
रोज कहानी नयी मैं गढ़ता ।।