Saturday, 14 September 2013

मायने

कभी मै  गम पीता हु 
कभी गम मुझे पीता है
मरते है सब यहाँ ,
पर सभी क्या जीता है ?
जीने के सबने मायने बनाये है
उनके लिए क्या 
जो कफ़न से तन को ढकता  है ?
मेरी मंजिले वही 
जहाँ कदम थक गए
निढाल होकर  जहाँ 
धरा से लिपट गए। 
सभी राहें वही
फिर राह क्यों कटे कटे
विभिन्न आवरण से सभी 
सत्य को क्यों ढकता है ?
कदम दर कदम जब 
फासले है घट रहे 
मन में दूरियां क्यों 
बगल से होता जाता है ?
जहाँ से चले सभी 
अब भी वही खड़े 
विभिन्न रूपों में बस  
वक्त के साथ बदल पड़े। 

9 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (15-09-2013) मातृभाषा का करें सम्मान : चर्चामंच 1369 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    हिन्दी पखवाड़े की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. शास्त्री जी आपका हार्दिक आभार....

      Delete
  2. ये गम पीने पिलाने का सिलसिला ही तो जीवन है ...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर भाषा
    सुन्दर प्रस्तुति

    जंगल की डेमोक्रेसी

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति !!

    ReplyDelete
  5. सत्य की कड़वाहट है...कौन सहन करना चाहता उसे. सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  6. जहाँ से चले सभी
    अब भी वही खड़े
    विभिन्न रूपों में बस
    वक्त के साथ बदल पड़े।
    ....बहुत सुन्दर और गहन अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete