Sunday, 29 September 2013

खो गए सभी



उन्मुक्त गगन 
शीतल पवन
निर्मल जल 
विहंग दल
रेशमी किरण
भौरों का गण
सतरंगी वाण
बूंदों की गान  
ऋतुओ से मेल 
झिंगुड़ का खेल 
टर्र-टर्र का राग
आँगन में प्रयाग 
चन्दन से धुल 
मिल पराग ऑ फूल 
उठता गुबार 
गोधुली में अपार 
कचड़ो का हवन 
सर्द सुबहो में संग 
सकल गाँव का प्यार 
जो पूरा परिवार 
है खो गए सभी 
जब से छूटा वो जमीं। । 
क़दमों के चाल 
संग जीवन के ताल 
उदेश्य विहीन 
नहीं कुछ तर्क अधीन 
पथ पर सतत 
यात्रा में रत 
तन बसे कहीं 
पर मन वहीं 
डूबा प्रगाढ 
मिट्टी संग याद 
ए  काश कही 
हो जाये यही 
घूमे जो काल 
विपरीत कर चाल  
फिर जियूं वहाँ 
याद बसी जहाँ। । 

12 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (30-09-2013) गुज़ारिश खाटू श्याम से :चर्चामंच 1399 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    हिन्दी पखवाड़े की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. शास्त्री जी हार्दिक आभार

      Delete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!

    ReplyDelete
  3. बस यही तो नहीं हो पाता ... समय बीतने के बाद वापस नहीं आता ... रह जाती हैं तो बस यादें ...

    ReplyDelete
  4. इस पोस्ट की चर्चा, मंगलवार, दिनांक :-01/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -14 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....राजीव कुमार झा

    ReplyDelete
  5. वाह्ह सच है ... खो गए कही बचपन के दिन ... दादी नानी की कहानी ..गली मोहल्ले की रिश्तेदारी ... वो बीते पल लौट के न आएंगे दोबारा बस स्वर्णिम यादे ही है जो फिर फिर आती है तडपती है ..
    बधाई इस सुन्दर रचना के लिए ... :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यबाद सुनीताजी ..

      Delete
  6. बहुत ही बेहतरीन रचना....
    :-)

    ReplyDelete