Wednesday, 2 October 2013

एक आत्मा की पुकार

हो आबद्ध युगों -युगों से
निरंतर दर-दर बदलता रहा
मुक्ति की खोज में
अब तक किसी न किसी 
काया संग युक्त ही चलता रहा.…। 

 मै अजन्मा ,जन्म काया
निर्लिप्त ही, न मोह पाया
शस्त्र ,वायु या अग्नि
अशंख्य पीड़ा की जननी  
अन्य भी न संहार पाया  ……. । 

किन्तु अब घुटता यहाँ
काया में बसता जहाँ
मलिनता छा रहा
मै  आत्मा अब
खुद पर ही रोता रहा ……. ।  

सतयुग से भटकता   
कदम बढाता कल्कि तक पंहुचा 
शायद मै  हो जाऊ मुक्त 
अंतिम सत्य से दर्शन 
युगों युगों से अब तक विचरण ……. ।  

धृष्टता सब युगों में देखि
किन्तु अब ये संस्कार 
मन मलिन काया संग करता 
मै आत्मा वेवश लाचार
किन्तु दोष ले पुनः भटकता…… . । 

जीर्ण -शीर्ण रक्षित देह 
व्याकुल विवश कितने से नेह 
मृत जग न छोड़ जाना चाहे 
किन्तु मै हर्षित हो अब 
महाप्रयाण करू इस जग से परे…….. . ।  

करुणा पुकार अब श्याम करू 
इन दिव्यता से उद्धार कर  
मै  भी चाहूँ मुक्ति अब 
खुद से अब इस आत्मा का 
इस धरा से संहार कर…… . । 

11 comments:

  1. करुणा पुकार अब श्याम करू
    इन दिव्यता से उद्धार कर
    मै भी चाहूँ मुक्ति अब

    अनूठी पुकार !!

    ReplyDelete
  2. बेहद सुंदर प्रस्तुति..कहीं कहीं आपका स्वर करुण तो कहीं कहीं वीररस से ओतप्रोत होता नज़र आ रहा है।।।

    ReplyDelete
  3. वाह !!! बहुत ही बढ़िया रचना !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 05/10/2013 को हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 017 तेरी शक्ति है तुझी में निहित ...< a href=http://hindibloggerscaupala.blogspot.in/>
    - पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद उपासनाजी

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर पुकार..
    सुन्दर रचना...
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रीनाजी

      Delete
  7. बहुत सुन्दर . नवरात्रि की शुभकामनाएँ .
    नई पोस्ट : नई अंतर्दृष्टि : मंजूषा कला

    ReplyDelete
  8. अति सुन्दर भाव है इस कविता में....!!!

    ReplyDelete