Thursday, 31 October 2013

द्वन्द

नजर अधखुली सी 
ख्वाव अधूरे से 
आसमान कि गहराई पे पर्दा 
बादल झुके झुके से। 
अविरल धार समुद्र उन्मुख 
पूर्ण को जाने कैसे भरता। 
एहसास सुख का या 
सुख क्या? एहसास कि कोशिश।  
हर वक्त एक द्वन्द 
किसी और से नहीं 
खुद से खुद का तकरार। 
नियत काल कि गति 
फिर क्यों नहीं कदम का तालमेल। 
जो है उसे थामे,सहेज ले 
या कुछ बचा ले जगह 
जो न मिला उसकी खोज में। 
हर रोज जारी है 
अधूरे को भरने कि  
और भरे हुए को हटाकर 
नए जगह बनाने का द्वन्द । । 

11 comments:

  1. इसी द्वन्द से जीवन का मज़ा भी है.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति ,,,
    हार्दिक शुभकामनाएं.

    RECENT POST -: तुलसी बिन सून लगे अंगना

    ReplyDelete
  3. सहेज ले
    या कुछ बचा ले जगह
    जो न मिला उसकी खोज में।
    बहुत खूबसूरत रचना !

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति...दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@जब भी जली है बहू जली है

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  6. हर रोज जारी है
    अधूरे को भरने कि
    और भरे हुए को हटाकर
    नए जगह बनाने का द्वन्द । ।
    ...और यह द्वंद्व अनवरत जारी रहता है उम्र भर....बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  7. आपके ब्लॉग को ब्लॉग - चिठ्ठा में शामिल किया गया है, एक बार अवश्य पधारें। सादर …. आभार।।

    नई चिठ्ठी : चिठ्ठाकार वार्ता - 1 : लिखने से पढ़ने में रुचि बढ़ी है, घटनाओं को देखने का दृष्टिकोण वृहद हुआ है - प्रवीण पाण्डेय

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete