Saturday, 7 March 2015

अब हम चलते है ।

कही कुछ ठिठक गया
जैसे समय, नहीं मैं । 
नहीं कैसे हो सकता
जब समय गतिशील है
फिर कैसे ठिठक गया,
अंतर्विरोध किसका
काल  या मन का ?
मन तो समय से भी
ज्यादा गतिमान है
फिर कौन ठिठका
काया जड़ या चेतन मन ?
समय का तो कोई बंधन है ही नहीं
फिर ये विरोधाभास क्यों
मन को समझाने का
या खुद को बहलाने का?
पता नहीं क्या
बस अब हम चलते है । 

14 comments:

  1. हो ली की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (08-03-2015) को "होली हो ली" { चर्चा अंक-1911 } पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चित्रण !!!

    ReplyDelete
  3. sahi bat aur chalne ka nam hi hai jindgi ....

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुंदर और लाजवाब रचना।

    ReplyDelete
  5. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us. Bank Jobs.

    ReplyDelete
  6. मन रुक जाये तो चलना मुश्किल होता है ... काल की गति तो निरंतर है ...

    ReplyDelete
  7. बढ़िया अभिव्यक्ति , मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर बधाई
    मैन भी ब्लोग लिखता हु और आप जैसे गुणी जनो से उत्साहवर्धन की अपेक्षा है
    http://tayaljeet-poems.blogspot.in/

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर सार्थक सृजन, बधाई

    ReplyDelete
  10. मनोभावों की सुन्दर अभिव्यक्त्ति ...
    आज पत्रिका के 'Web Blog' कालम में आपके ब्लॉग की 'कुछ लिखने का बना लो मन' नाम से चर्चा पढ़कर अच्छा लगा ...
    हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  11. सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete